सर्प तुम सभ्य तो

सर्प तुम सभ्य तो
हो नहीं पाये
नगर में बसना भी
तुझे नहीं आया
एक बात पुंछू ?
तब कैसे सीखा डसना
विष कहाँ से पाया ?