रूहानी रिश्ता

सदैव ही
वन व वनवासी
दोनों के दरम्यां
होता एक अजीब रिश्ता, या
होता एक रूहानी रिश्ता
नहीं होता जरूरत
दोनों को शब्दों की, पर
मौन नहीं,
दोनों होते हैं मुखर
समझते हैं,
अनुभव करते हैं
और जीते हैं
एक दूजे के लिए
जीवन को